Web Prime Media

A True News Junction

इतने फरवरी तक पी’क पर होगी कोरोना की ल’हर, देश की बड़ी संस्था का दावा।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) मद्रास के किए एक अध्ययन में भारत में कोरोना वायरस संक्रमण फैलने की दर बताने वाली ‘आर-वैल्यू’ 14 जनवरी से 21 जनवरी के बीच और कम होकर 1.57 रह गई है। देश में संक्रमण की तीसरी लहर के चर’म पर पहुंचने की संभावना है।

आर-वैल्यू’ बताती है कि एक व्यक्ति कितने लोगों को संक्रमित कर सकता है। यदि यह दर एक से नीचे चली जाती है तो यह माना जाता है कि वैश्विक महामा’री समाप्त हो गई है। आईआईटी मद्रास के विश्लेषण के अनुसार, 14 जनवरी से 21 जनवरी के बीच आर-वैल्यू 1.57 द’र्ज की गई, जो सात से 13 जनवरी के बीच 2.2, एक से छह जनवरी के बीच चार और 25 दिसंबर से 31 दिसंबर के बीच 2.9 थी।

एलन मस्क की कंपनी ‘टेस्ला’ ने भारत में रखा कदम, लग्जरी इलेक्ट्रिक कारों का करेगी निर्माण, जानें सभी बड़ी बातें।

प्रोफेसर नीलेश एस उपाध्याय और एस सुंदर की अध्यक्षता में आईआईटी मद्रास के गणित विभाग और सेंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर कम्प्यूटेशनल मैथमैटिक्स एंड डेटा साइंस ने कम्प्यूटेशनल मॉडलिंग के जरिए प्रारंभिक विश्लेषण किया। आंकड़ों के अनुसार, मुबंई की आर-वैल्यू 0.67, दिल्ली की आर-वैल्यू 0.98, चेन्नई की आर-वैल्यू 1.2 और कोलकाता की आर-वैल्यू 0.56 है।

आईआईटी मद्रास के गणित विभाग में सहायक प्रोफेसर डॉ. जयंत झा ने बताया कि मुंबई और कोलकाता की आर-वैल्यू दर्शाती है कि वहां म’हामारी का चर’म समाप्त हो गया है, जबकि दिल्ली और चेन्नई में यह अब भी एक के करीब है।

उन्होंने कहा, ”इसका कारण यह हो सकता है कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के नए दिशानिर्देशों के अनुसार संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने की अनिवार्यता समाप्त कर दी गई है और इसलिए पहले की तुलना में संक्रमण के कम मामले सामने आ रहे हैं।

झा ने बताया कि उनके विश्लेषण के अनुसार, कोरोना वायरस का च’रम छह फरवरी तक आगामी 14 दिन में आ जाएगा। इससे पहले पूर्वानुमान जताया गया था कि एक फरवरी से 15 फरवरी के बीच तीसरी लहर का चर’म आएगा।

भारत में रविवार को संक्रमण के 3,33,533 नए माम’ले सामने आने के बाद, संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 3,92,37,264 हो गई। तीसरी लह’र का मुख्य कारण कोविड-19 के ओमीक्रोन स्वरूप को माना जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *